Home / Bank / रूपे कार्ड क्या है । What is Rupay card in Hindi

रूपे कार्ड क्या है । What is Rupay card in Hindi

रूपे कार्ड क्या है? यह सवाल आम लोगों के जेहन में है। कुछ लोग रूपे कार्ड की अलग-अलग परिभाषा बताते हैं, जिसकी वजह से ज्यादातर लोग रूपे कार्ड को समझने में गलती भी कर जाते हैं। तो चलिए हम आपको बताते हैं कि रूपे कार्ड क्या है। हम आपको रूपे कार्ड की उपयोगिगता और इसके फायदे भी बताएंगे।

bank, rupay card, use and profits

 

क्या है रूपे कार्ड

रूपे कार्ड स्वदेशी भुगतान प्रणाली है। यह एनपीसीआई द्वारा संचालित किया जाता है। यह भारत का अपना डेबिट या एटीएम कार्ड है, जो वीजा मास्टर और मेस्ट्रो एटीएम कार्ड की तरह काम करता है। रूपे कार्ड दो शब्दों को मिलाकर बनाया गया है। इसका पहला शब्द ru है, जिसका मतलब भारतीय मुद्रा यानी रुपये से है। दूसरा शब्द pay है, जिसका मतलब भुगतान करना होता है। दोनों शब्दों को मिलाकर रूपे नाम दिया गया है।

2011 में लांच हुआ रूपे कार्ड

भारत में रूपे कार्ड को 2011 में लांच किया गया था। शुरू में रूपे कार्ड ज्यादा चलन में नहीं था, लेकिन 2014 में जब जनधन खाता खोलने की शुरुआत हुई तो इसकी उपयोगिता बढ़ गई। जनधन योजना के तहत भारत में जिन लोगों ने खाता खुलवाया उन्हें अलग-अलग बैंकों की तरफ से रूपे कार्ड ही वितरित किया गया। रूपे कार्ड के लिए खाताधारकों से किसी भी तरह का शुल्क नहीं वसूला गया।

रूपे कार्ड के फायदे

  • अगर आपके पास रूपे कार्ड है तो आप एटीएम कार्ड की तरह भारत में मौजूद किसी भी एटीएम से पैसे निकाल सकते हैं।
  • रूपे कार्ड डेबिट कार्ड की तरह ही काम करता है। इसका इस्तेमाल कर आप पॉस मशीन में कार्ड स्वाइप करके नकदी निकाल सकते हैं।
  • रूपे कार्ड के जरिए आप ऑनलाइन भुगतान भी कर सकते हैं। ऑनलाइन शापिंग के लिए भी रूपे कार्ड का इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • भारत में मौजूद ज्यादातर शॉपिंग साइट रूपे कार्ड को स्वीकार कर रही हैं। रूपे कार्ड के जरिए शॉपिंग करने वालों की संख्या भी बढ़ी है।
  • रूपे कार्ड के जरिए आप ऑनलाइन रीचार्ज भी कर सकते हैं। बिजली का बिल, हाउस टैक्स, टेलीफोन बिल और जलकल बिल भी जमा कर सकते हैं।
  • रूपे कार्ड पूरी तरह सुरक्षित है। इसकी विश्ववसनियता पर भी सवाल खड़ा नहीं किया जा सकता है। रूपे कार्ड की शिकायत नहीं मिलती है।
  • खास बात यह है कि रूपे कार्ड की प्रोसेसिंग फीस भी बहुत कम है। जबकि विदेशों में संचालित कार्ड की प्रोसेसिंग ज्यादा है।

भारत में ही कर सकते हैं इस्तेमाल

रूपे कार्ड की अपनी सीमाएं भी हैं। आप इसका इस्तेमाल पूरे भारत में कहीं भी कर सकते हैं, लेकिन विदेशों में यह मान्य नहीं है। विदेशी एटीएम में रूपे कार्ड का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है। इसी तरह बहुत सी ऐसी शॉपिंग साइट्स भी हैं, जिन्होंने रूपे कार्ड को मान्यता नहीं दी है। आप ऑनलाइन शॉपिंग करने के बाद रूपे कार्ड से पेंमेंट नहीं कर सकते हैं।

सभी बैंक जारी करते हैं रूपे कार्ड

भारत में शायद ही ऐसा कोई बैंक होगा, जो रूपे कार्ड जारी नहीं करता है। राष्ट्रीयकृत बैंकों के साथ प्राइवेट बैंक भी रूपे कार्ड जारी कर रहे हैं। केंद्र सरकार की ओर से सभी बैंकों को सर्कुलर भेजकर रूपे कार्ड जारी करने का निर्देश दिया गया है। चूंकि जनधन योजना के तहत प्राइवेट बैंकों को भी जीरो बैलेंस पर खाता खोलने के लिए कहा गया है, इसलिए उन्हें इसके तहत रूपे कार्ड भी जारी करना पड़ रहा है। रूपे कार्ड के लिए किसी भी तरह का शुल्क नहीं लिया जाता है। सरकार की तरफ से यह पूरी तरह से मुफ्त है।

अंगूठा लगाने पर नहीं मिलेगा रूपे कार्ड

आरबीआई की गाइडलाइन के मुताबिक रूपे और एटीएम कार्ड उन्हीं लोगों को दिया जाएगा, जो पढ़ना-लिखना जानते हैं। बैंकों का मानना है कि अगर कोई व्यक्ति पढ़ना और लिखना नहीं जानता है तो फिर रूपे कार्ड का इस्तेमाल किस तरह करेगा। जबकि पॉस मशीन में रूपे कार्ड का इस्तेमाल करने के लिए आपको पढ़ना आना चाहिए। अगर ऐसा नहीं हुआ तो कार्ड धारक दूसरे लोगों की मदद से पैसा निकालेंगे, जिसकी वजह से पिन नंबर सुरक्षित नहीं रहेगा। यही वजह है कि ज्यादातर बैंक उन्हीं लोगों को रूपे कार्ड देते हैं, जो पढ़ना जानते हैं।

तो बैंकों को देना होगा हलफनामा

हालांकि बैंकों की तरफ से कई बार बिना पढ़े लिखे लोगों को भी रूपे कार्ड जारी किया गया है। इसके लिए खाताधारक के भाई, बहन, माता, पिता, पुत्र वगैरह को हलफनामा देना होता है। यह कंडीशनल प्रक्रिया है। राष्ट्रीय और प्राइवेट दोनों तरह के बैंक इस मामले में आरबीआई की गाइडलाइन का सख्ती से पालन करते हैं।

About Mohd. razi

हिंदी पत्रकारिता में 14 वर्ष का अनुभव। दैनिक जागरण और अमर उजाला में काफी वक्त दिया।

Check Also

types of debit card

डेबिट कार्ड कितने प्रकार के होते हैं । How many types of debit card in Hindi

डेबिट कार्ड कितने प्रकार के होते हैं। यह सवाल आम लोगों के जेहन में है। …