Home / Documents / Lpg Connection / पांच किलो गैस सिलेंडर कनेक्शन कैसे लें । How to apply for 5 kg lpg connection in hindi

पांच किलो गैस सिलेंडर कनेक्शन कैसे लें । How to apply for 5 kg lpg connection in hindi

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत घर-घर एलपीजी सिलेंडर पहुंचाने का काम हुआ। गरीबों को मुफ्त में गैस कनेक्शन बांटे गए तो अब उज्ज्वला योजना को राशन कार्ड धारकों के लिए भी खोल दिया गया है। कनेक्शन तो सरकार दे रही है लेकिन बीच-बीच में आवाज उठती है कि गरीब महेंगे सिलेंडर रिफिल कैसे करवाएं। सरकार ने इसका भी उपाय खोज निकाला है। सरकार ने गरीबों के लिए पांच किलो के गैस सिलेंडर का विकल्प खोल दिया है।

5kg lpg

अब गरीबों को 14.2 किलो के बड़े गैस सिलेंडर की जरूरत नहीं है। वे चाहेंगे तो उनको पांच किलो का सिलेंडर भी मिलेगा। इस पर भी सरकार की ओर से मिलने वाली सब्सिडी जारी रहेगी। पांच किलो के सिलेंडर लेने वाले लोगों के बैंक खाते में सब्सिडी की रकम डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर यानि डीबीटी के माध्यम से सीधे जमा करा दी जाएगी।

उज्ज्वला ग्राहकों को इसके लिए नए कनेक्शन लेने की आवश्यकता नहीं है। उनको पुराने कनेक्शन पर ही पांच किलो का विकल्प चुनने का अधिकार दिया गया है। जिन राशन कार्ड धारकों के लिए उज्ज्वला योजना की शुरुआत की गई है, वे भी पांच किलो के सिलेंडर का विकल्प चुन सकते हैं।

पांच किलो के सिलेंडर का विकल्प लाने की वजह यह थी कि सरकार ने छह करोड़ से अधिक बीपीएल कार्ड धारकों को उज्ज्वला योजना के तहत मुफ्त में गैस कनेक्शन दिए। शुरुआत में तो लोगों ने उत्साह दिखाया लेकिन धीरे-धीरे खपत में कमी आने लगी। आवाजें उठने लगीं। विपक्षियों ने कहा कि सरकार ने सिलेंडर तो दे दिए गए लेकिन रिफिल कराने में कोई सहूलियत नहीं दी जा रही है।

रिफिल महंगा होने के कारण लोगों ने एलपीजी का उपयोग बंद कर दिया है और परंपरागत लकड़ी के चूल्हे पर खाना बनाना शुरू कर दिया है। उज्ज्वला योजना से लाभान्वित लोग हर महीने गैस भरवाएं, इसलिए पांच किलो का सस्ता एलपीजी सिलेंडर लांच कर दिया गया। इसके साथ ही सरकार ने पांच किलो के सब्सिडी वाले सिलेंडर की संख्या भी बढ़ा दी है। लोग साल भर में 34 बार पांच किलो के सिलेंडर सब्सिडी के साथ रिफिल करवा सकते हैं। तो अब चलिए पांच किलो सिलेंडर के लिए आपको क्या करना है, इसके बारे में भी जान लीजिए।

ऐसे लें पांच किलो का सिलेंडर

  • जिन गरीबों को अब तक 14.2 किलो का एलपीजी सिलेंडर दिया जाता था, वह पांच किलो वाले सिलेंडर भी बुक करा सकते हैं।
  • उनको इसके लिए अलग से कुछ नहीं करना। जिस फोन नंबर पर वे बड़े सिलेंडर बुक कराते थे, वही नंबर को उनको डायल करना है।
  • इसमें पांच किलो का विकल्प भी दिया जाएगा। आपको बस पांच किलो के विकल्प को ओके करना है। ओके करते ही सिलेंडर बुक हो जाएगा।
  • बुकिंग के तीन दिन के भीतर सिलेंडर आपके घर पहुंच जाएगा। जिन इलाकों में होम डिलीवरी की सुविधा नहीं है, वहां पर लोगों को एजेंसी पर जाना होगा।
  • लोग अपनी एजेंसी पर जाकर भी बड़े सिलेंडर को पांच किलो के सिलेंडर से बदलवा सकते हैं। वे जब भी चाहेंगे इसके रिफिल करवा सकते हैं।
  • पांच किलो का गैस सिलेंडर फिलहाल 328 रुपये में दिया जा रहा है। इस पर 128 रुपये की सब्सिडी प्रदान की जाती है।
  • बुकिंग के बाद आपको देने तो 328 रुपये होंगे लेकिन कुछ ही दिन के भीतर आपके बैंक अकाउंट में सब्सिडी के 128 रुपये भेज दिए जाएंगे।
  • इसका मतलब है कि सरकार ने 128 रुपये प्रति गैस सिलेंडर की दर से चुकता कर आपका बोझ कम कर दिया।
  • साल भर में पांच किलो के 34 सिलेंडर बुक कराए जा सकेंगे। 34 सिलेंडर बुक कराने से मतलब है कि सरकार इतने सिलेंडर तक सरकार सब्सिडी देगी।
  • पांच किलो का 35वां सिलेंडर आपको पूरे दर पर मिलेगा। सरकार उपभोक्ताओं को साल भर में 12 सिलेंडर पर ही सब्सिडी देती है।
  • 13वें सिलेंडर से लोगों के गैस का पूरा दाम चुकाना पड़ता है। इसी हिसाब से सरकार ने बड़े सिलेंडर की तुलना में पांच किलो के सब्सिडी वाले तीन गुना सिलेंडर देने का निर्देश दिया है।
  • सभी उपभोक्ताओं के लिए घोषणा की गई है कि वे अपनी अधिकृत एजेंसी पर जाकर सिलेंडर को बदलवा सकते हैं।

राशन कार्ड धारकों को भी मुफ्त कनेक्शन

सरकार ने उज्ज्वला योजना की शुरुआत बीपीएल कार्ड धारकों, एससी व एसटी से संबंधित लोगों के लिए की थी। सरकार ने तय समय से पहले ही उज्ज्वला योजना का लक्ष्य हासिल कर लिया। छह करोड़ से अधिक लोगों के मुफ्त एलपीजी सिलेंडर वितरित करने के बाद इस योजना को राशन कार्ड धारकों के लिए भी खोल दिया गया है।

एलपीजी सिलेंडर को राशन कार्ड धारकों को भी मुफ्त में वितरित किया जाएगा। सरकार ने 2020 तक आठ करोड़ राशन कार्ड धारकों को मुफ्त सिलेंडर देने का निर्णय लिया है। देश भर में राशन कार्ड धारकों की संख्या 9.27 करोड़ है।

सरकार मुफ्त सिलेंडर बांटने पर 4800 करोड़ रुपये खर्च करेगी। इसके लिए बजट में भी प्रावधान कर दिया गया है। सरकार ने लक्ष्य रखा है कि 2022 तक एक भी परिवार ऐसा न बचे जिसके पास एलपीजी कनेक्शन न हो। राशन कार्ड धारकों के पास भी बड़े या छोटे में में से किसी एक सिलेंडर को चुनने का विकल्प होगा।

राशन कार्ड धारक के पास आधार कार्ड व बैंक अकाउंट का होना जरूरी है। वैसे अधिकांश राशन कार्ड धारकों के पास बैंक अकाउंट हैं। गैस सिलेंडर पर मिलने वाली सब्सिडी सीधे उनके बैंक अकाउंट में भेज दी जाएगी। अगर आधार कार्ड अब तक नहीं बना है तो इसे तत्काल बनवाकर पहले राशन कार्ड से इसको लिंक करवा लें। इसके बाद ही उज्ज्वला योजना के लिए आवेदन करें।

इन दस्तावेजों की पड़ेगी जरूरत

  1. आधार कार्ड
  2. टेलीफोन बिल
  3. बिजली का बिल
  4. वोटर आईडी कार्ड
  5. ड्राइविंग लाइसेंस
  6. पासबुक की फोटो कॉपी
  7. आवासीय पंजीकरण दस्तावेज
  8. पासपोर्ट
  9. सेल्फ डिक्लेरेशन

About Ashutosh Srivastava

हिंदी पत्रकारिता में 21 वर्ष का अनुभव। दैनिक जागरण और अमर उजाला में लंबा समय दिया।

Check Also

aadhar card

भारत गैस को कैसे करें आधार से लिंक | How to link Bharat gas with Aadhar in Hindi

अब तक आपने इंडेन व एचपी के एलपीजी कनेक्शन को आधार कार्ड से लिंक करना …