Home / pan card / ट्रांजैक्शन के लिए पैन कार्ड | pan card for transaction in hindi

ट्रांजैक्शन के लिए पैन कार्ड | pan card for transaction in hindi

pan card

पैन कार्ड का मतलब पर्मानेंट अकाउंट नंबर है। आम तौर पर पैन कार्ड का इस्तेमाल करदाता करते हैं लेकिन धीरे-धीरे इसे दूसरे तमाम विभागों से जुड़े लोगों के लिए भी जरूरी कर दिया गया है। जैसे बैंक, बीमा के साथ ही आईडी प्रूफ के लिए भी इस कार्ड का यूज किया जा रहा है। बिना इसके अब ट्रांजेक्शन भी संभव नहीं।

यही वजह है कि सरकार ने आधार के साथ ही पैन कार्ड को भी एक तरह से जरूरी कर दिया है। इसके लिए ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरह से व्यवस्था की गई है, ताकि लोगों को कार्ड बनवाने में किसी तरह की दिक्कतों का सामना न करना पड़े। हम आपको बता रहे हैं कि पैन कार्ड का इस्तेमाल क्या है और ट्रांजैक्शन के लिए पैन कार्ड की जरूरत क्यों है।

ट्रांजैक्शन के लिए पैन कार्ड क्यों जरूरी है | why pan card is required for transaction

पैन कार्ड की अब हर जगह जरूरत पडऩे लगी है। बैंक हो या बीमा, यहां आपको अपना पैन नंबर लगाना ही पड़ेगा। बैंक में अब तो अकाउंट नंबर खुलवाने के लिए भी पैन नंबर लगाना पड़ रहा है। जबकि किसी भी तरह की बीमा पॉलिसी लेने के लिए पैन नंबर को अनिवार्य कर दिया गया है। जिनके पास पैन नंबर नहीं है, उन्हें पॉलिसी लेने में भी तमाम तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। इसी तरह प्रापर्टी, जेवरात और शेयर खरीदने के लिए भी पैन कार्ड की जरूरत पड़ती है। बिना पैन कार्ड इन क्षेत्रों में इनवेस्ट करना मुश्किल हो जाएगा।

जेवरात खरीदने के लिए भी जरूरी | essential for purchasing jewelry

खास बात यह है कि बैंक, बीमा, आयकर विभाग के साथ ही जेवरात की खरीदारी के लिए भी पैन नंबर को जरूरी किया जा रहा है। खासकर उन लोगों के लिए जो, मूल रूप से इस पेशे से जुड़े हैं। यही नहीं, उन लोगों के लिए भी पैन नंबर अनिवार्य किया जा रहा है, जो बड़े पैमाने पर जेवरात खरीद रहे हैं। हम आपको बता दें कि अगर आप दो लाख रुपये से ज्यादा के कीमत के जेवरात खरीदते हैं तो आपको अपना पैन नंबर लगाना ही होगा।

बैंक आउंट के लिए पैन कार्ड लगाना पड़ेगा | required for bank account

बैंकों ने भी पैन कार्ड को अनिवार्य कर दिया है। सरकार ने भी साफ किया है कि अगर किसी को पचास हजार रुपये से ज्यादा का लेनदेन करना है तो उसे अपना पैन नंबर शो करना पड़ेगा। बैंकों ने एक कदम आगे बढ़ते हुए नई गाइडलाइंस जारी की है कि जिनके पास पैन नंबर नहीं होगा, उनका बचत खाता नहीं खोला जाएगा। अगर पैन नंबर नहीं है तो उन्हें इसके लिए आधार नंबर दिखाना होगा। यानी आधार और पैन में से किसी एक चीज को दिखाना ही होगा।

एयरलाइंस में भी पैन नंबर जरूरी | essential for airlines

बैकों में नया खाता खोलने और पचास हजार रुपये से ज्यादा का लेनदेन करने पर पैन नंबर मांगा जाता हैं। इसी तरह बीमा में नई पॉलिसी के लिए तो पैन नंबर की डिमांड की ही जाती है, पॉलिसी पूरी होने पर उसकी रकम हासिल करने के लिए भी पैन नंबर मांगे जाने लगे हैं। खास बात यह है कि अब ट्रेनों में भी आईडीपू्रफ के तौर पर पैन कार्ड मांगा जा रहा है।

यही वजह है कि बहुत से लोग, जिनके पास आधार कार्ड नहीं है, वे पैन नंबर साथ लेकर चलते हैं, ताकि उन्हें किसी तरह की दिक्कतों का सामना न करना पड़े। इसी तरह एयरलाइंस में भी पैन नंबर मांगे जा रहे हैं। जो लोग टिकट बुकिंग कराते हैं पहले तो उनसे आधार नंबर की मांग की जाती है। अगर उनके पास आधार कार्ड नहीं है तो पैन नंबर देने को कहा जाता है। जिनके पास पैन नंबर होता है, उन्हें ही टिकट भी दिए जा रहे हैं।

किन बातों पर दें ध्यान | bear in mind in these topics

  • सबसे पहले आधार कार्ड बनवाएं
  • अगर आधार कार्ड नहीं है तो पैन कार्ड जरूर बनवाएं
  • इसके अलावा अपने पैन नंबर को आधार से लिंक जरूर करवाएं
  • ज्यादातर विभाग इसे अनिवार्य कर रहे हैं। अगर आपको पैन नंबर आधार से लिंक नहीं है तो आपको दिक्कत हो सकती है
  • अपना पैन नंबर किसी को न दिखाएं
  • पैन नंबर देखने के बाद वह आपके बारे में सर्च कर सकता है
  • आधार नंबर को भी सेव करें। चूंकि वह बैंक से लिंक है, इसलिए किसी को भी अपने आधार नंबर की जानकारी न दें
  • ऐसा होने पर आपके बैंक अकाउंट से पैसे भी निकल सकते हैं
  • गैस कनेक्शन के लिए भी आधार अनिवार्य कर दिया गया है
  • इसके अलावा गाडिय़ों की खरीद-फरोख्त के लिए भी पैन या आधार की जरूरत पड़ रही है
  • खास बात यह है कि अब मोबाइल खरीदने या नया सिम एलाट कराने के लिए आधार नंबर के साथ ही थंग इंप्रेशन लिया जा रहा है
  • जिनके पास आधार नंबर नहीं है, उन्हें अब मोबाइल सिम भी नहीं मिल रहा है।
  • ट्राई ने मोबाइली कंपनियों को साफ निर्देश दिया है कि मोबाइल स्टोर पर थंब मशीन जरूर रखें।
  • साथ ही ग्राहकों के बारे में पूरी डिटेल्स हासिल कर लें। ताकि बाद में अगर किसी तरह की दिक्कत सामने आती है तो उसके बारे में आसानी से पता लगाया जा सके

सब्सिडी के लिए भी जरूरी | essential for subsidy

गैस सब्सिडी चाहिए तो उसके लिए भी आपको आधार नंबर दिखाना होगा। यही वजह है कि जिन लोगों के नाम से गैस कनेक्शन है, उन सबको बैंकों में आधार कार्ड की कॉपी लगानी पड़ी। जिन लोगों ने आधार नंबर नहीं बताया, उन्हें सब्सिडी से भी वंचित होना पड़ा है। केंद्र और प्रदेश सरकार की तमाम स्कीमों का लाभ लेने के लिए भी आधार नंबर जरूरी कर दिया गया है। जिनके पास आधार नंबर नहीं है, उन्हें सरकारी स्कीमों का लाभ उठाने से वंचित होना पड़ रहा है। इसलिए बेहतर है कि आप पैन कार्ड के साथ ही आधार नंबर भी अपने पास रखें।

शेयर और प्रापर्टी के लिए भी जरूरी | essential for property and share

पैन कार्ड को जमीन और मकान की खरीद-फरोख्त के लिए भी जरूरी कर दिया गया है। अगर आपके पास पैन कार्ड नहीं है तो आप न तो जमीन खरीद सकते हैं और न ही किसी का मकान खरीद सकते हैं। इसी तरह शेयर खरीदने के लिए भी पैन नंबर शो करना पड़ता है। बिना पैन नंबर दिखाए शेयर में पैसा नहीं लगाया जा सकता है। सरकार का मकसद पैन कार्ड नंबर के जरिए लोगों पर निगाह रखी जा सके, ताकि बाद में उन्हें टैक्स के लिए मजबूर किया जा सके।

ट्रांसफर के लिए भी जरूरी है | required for transfer

सरकार आधार और पैन कार्ड पर पूरी तरह निर्भर होती जा रही है। पहले टीचर्स ट्रांसफर के लिए रिक्वेस्ट करते थे तो, उनसे पैन या आधार नंबर नहीं मांगे जाते थे, लेकिन अब ऐसा नहीं है। अगर किसी टीचर को ट्रंासफर कराना है तो उसे आधार या फिर पैन नंबर देना ही होगा।

अगर किसी ने ऐसा नहीं किया तो ट्रांसफर प्रक्रिया रुक भी सकती है। एनआईसी की वेबसाइट पर भी इसे पोस्ट कर दिया गया है। टीचर्स इस वेबसाइट पर जाकर आधार और पैन नंबर के बारे में जान सकते हैं।

खाताधारकों के लिए गाइडलाइन | guideline for bank account holder

केंद्र सरकार ने भी साफ कर दिया कि बैंक इस मामले में किसी भी तरह की लापरवाही न बरतें। वे बैंक अकाउंट खोलने के लिए तो पैन नंबर मांगे ही, साथ ही पैन की पूरी डिटेल्स भी हासिल करें।

ताकि बाद में किसी भी तरह की दिक्कतों का सामना न करना पड़े। खास बात यह है कि सरकार इस नियम पर भी ध्यान केंद्रित कर रही है कि तीस हजार से ज्यादा के लेनदेन पर भी पैन नंबर जरूरी कर दिया जाए। हालांकि अभी इस पर स्थिति साफ नहीं की गई है।

पैन नंबर की करें जांच | check to pan number

ऐसा नही है कि सभी पैन नंबर पूरी तरह से सही है। कई ऐसी एजेंसियां भी हैं, जो लोगों के लिए फर्जी पैन कार्ड भी बना रहे हैं। लोगों को इसके बार में उस वक्त पता चलता है जब वह किसी सरकार विभाग में इस फिल करते हैं। गौरतलब है कि देशभर में ऐसे 11 लाख पैन कार्ड को निरस्त किया गया है, जो फर्जी तरीके से बनाया गया था।

यही वजह है कि सरकार ने साफ कर दिया कि पैन कार्ड बनवाने के लिए एनएसडीएल और यूटीआई की वेबसाइट का ही इस्तेमाल करें। अगर ऑफलाइन पैन कार्ड बनवाना है तो भी यूटीआईआईटीएसएल के आफिस में जाकर फार्म भरें।

About Ashutosh Srivastava

हिंदी पत्रकारिता में 21 वर्ष का अनुभव। दैनिक जागरण और अमर उजाला में लंबा समय दिया।

Check Also

पैन कार्ड : विदेशी नागरिकों के लिए जरूरी दस्तावेज | pan card : required documents for foreigners in hindi

पैन कार्ड बनवाना बिल्कुल आसान है। इसके लिए कुछ नियम बनाए गए हैं, जिनपर अमल …