Home / pan card / पैन कार्ड : विदेशी नागरिकों के लिए जरूरी दस्तावेज | pan card : required documents for foreigners in hindi

पैन कार्ड : विदेशी नागरिकों के लिए जरूरी दस्तावेज | pan card : required documents for foreigners in hindi

पैन कार्ड बनवाना बिल्कुल आसान है। इसके लिए कुछ नियम बनाए गए हैं, जिनपर अमल करना होगा। पैन कार्ड के लिए आप ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरह से आवेदन कर सकते हैं। इसके अलावा पैन कार्ड बनवाने के लिए भारतीय और विदेश में रहने वालों के लिए अलग-अलग नियम बनाए गए हैं।

जो लोग भारतीय हैं, उन्हें फार्म 49-ए भरना होगा, जबकि जो लोग विदेशी हैं, उन्हें भारत में पैन कार्ड बनवाने के लिए फार्म 49-एए भरना होगा। इसी तरह दोनों के लिए डाक्यूमेंट्स भी तय किए गए हैं। यानी भारतीयों और विदेश में रहने वालों को किस तरह के डाक्यूमेंट्स लगाने हैं, ये भी साफ कर दिया गया है। हम आपको बता रहे हैं कि फार्म 49-एए कैसे भरना है, उसमें किस तरह के दस्तावेज लगाए जाने हैं और वह किन लोगों के लिए जरूरी है।

पैन कार्ड विदेशी नागरिकों के लिए जरूरी | pan card required for foreigners

  • अगर विदेशी नागरिक भारत में रहकर व्यापार कर रहे हैं या फिर किसी दूसरे शोबे से ताल्लुक रखते हैं तो उन्हें भी पैन कार्ड बनवाना पड़ेगा। खासकर उन विदेशी नागरिकों के लिए पैन कार्ड जरूरी है, जो भारत में रहकर कंपनी, फर्म या फिर ट्रस्ट चला रहे हैं।
  • जो भारत में रह रहे हैं उन विदेशी नागरिकों को पैन कार्ड बनवाने के लिए आईडी पू्रफ के रूप में रेसिडेंट्स कार्ड, पीआईओ कार्ड, सिटिजिनशिप आईडी नंबर देना होगा।
  • अगर किसी को कंपनी चलाना है तो उसे भी पैन कार्ड बनवाना पड़ेगा। इसके लिए उन्हें रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट जो भारत सरकार की ओर से मंजूर किया गया हो
  • अगर आप फर्म या ट्रस्ट चला रहे हैं तो भी आपको पैन कार्ड की जरूरत पड़ेगी। खासकर उन लोगों को जो मूल रूप से विदेशी नागरिग हैं, लेकिन भारत में रहकर कंपनी या ट्रस्ट चला रहे हैं। उन्हें भी आईडी पू्रफ के नाम पर जरूरी दस्तावेज जमा करना पड़ेगा।

कैसे भरे फार्म | how to fill

  1. जिस ब्लॉक लेटर का इस्तेमाल करना हो, उसे तय कर लें, अलग-अलग ब्लॉक लेटर का इस्तेमाल करने पर आपको दिक्कत हो सकती है। मुमकिन है कि आपका फार्म रद्द भी हो जाए
  2. अगर आप फार्म भरने जा रहे हैं तो हमेशा ब्लैक सियाही का इस्तेमाल करें। नीले पेन का इस्तेामल करने से परहेज करें और लाल सियाही का इस्तेमाल तो भूलकर भी न करें
  3. फार्म पूरी तरह साफ-साफ भरें। यानी फार्म पर किसी तरह की ओवर राइटिंग नहीं होना चाहिए। अगर आवेर राइटिंग होने का खतरा है तो दो फार्म डाउनलोड कर लें। ताकि फार्म गलत होने पर दूसरे फार्म का इस्तेामल किया जा सके
  4. फार्म पर पूरा नाम लिखें। यानी जो नाम आपकी हाईस्कूल और इंटरमीडियट की मार्कशीट पर लिखा हो, उसी नाम का इसतेमाल करें।
  5. फार्म पर दो पासपोर्ट साइज की फोटो जरूर लगाएं
  6. आप जो आईडी पू्रफ और एडरेस पू्रफ लगा रहे हैं, उसमें आपका नाम मैच करना चाहिए। अगर उसमें अलग-अलग है तो बाद में दिक्कत हो सकती है
  7. अगर थंब लगा रहे हैं तो जहां पर साइन है, उसकी दूसरी तरफ इसका इस्तेमाल करें

विदेशी कंपनी करती हैं इस्तेमाल | foreign company uses

पैन कार्ड आमतौर पर करदाताओं के लिए अनिवार्य है। जो लोग टैक्स जमा नहीं करते, लेकिन हर साल रिटर्न फाइल कर रहे हैं तो उनके लिए भी पैन कार्ड जरूरी है। अगर उनके पास पैन नंबर नहीं होगा तो वे रिटर्न फाइल नहीं कर सकते हैं। इसी तरह टीडीएस, ईआईएस, रिफंड आदि के लिए भी आप आवेदन करते हैं तो आपको पैन नंबर की जरूरत पड़ेगी। बिना पैन नंबर न तो आप टैक्स जमा कर सकते हैं और न ही इससे जुड़ी किसी भी चीज के लिए आवेदन कर सकते हैं। हम आपको बता रहे हैं कि पैन कार्ड कैसे बनेगा और इसके लिए कौन सा फार्म भरन होगा। सरकार ने भारतीय और गैर भारतीय दोनों लोगों के लिए अलग-अलग क्राइटेरिया बनाया है। यानी अगर भारतीय पैन नंबर हासिल करना चाहते हैं तो उन्हें फार्म के लिए दूसरा प्रोसेस पूरा करना होगा, जबकि विदेशी नागरिकों के लिए दूसरा फार्म भरना होगा।

इस तरह कर सकते हैं आवेदन | do apply for this way

पैन कार्ड के लिए दो तरह से आवेदन कर सकते हैं। अगर आप इंटरनेट फ्रेंडली हैं तो आपक ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। अगर इंटरनेट फ्रेंडली नहीं है तो आपके लिए बेहतर होगा कि आप ऑफलाइन आवेदन करें। ऑनलाइन आवेदन के लिए सरकार ने एनएसडीएल और यूटीआईआईटीएसएल जैसी वेबसाइट बना रखी हैं। ऑफलाइन पैन कार्ड बनाने की जिम्मेदारी भी इन्हीं दोनों के पास है, लेकिन इसलिए इंटरनेट की तरफ रुख करने की जरूरत नहीं है। देश भर में चार बड़े जोनल आफिस होने के साथ ही एनएसडीएल और यूटीआईआईटीएसएल की हजारों शाखाएं हैं, जहां आप फार्म लेकर पैन कार्ड के लिए मैनुअली अप्लाई कर सकते हैं। अगर आपके पास फार्म नहीं है तो एनएसडीएल की साइट पर फार्म डाउनलोड कर ऑफलाइन प्रक्रिया को पूरा सकते हैं। यानी दोनों तरह से आपके लिए पैन कार्ड बनवाना आसान है।

विदेशी नागरिक ये दस्तावेज लगाएं | foreigners fix these documents

आज के दौर में पैन कार्ड जरूरी है। ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरह से पैन कार्ड बनाए जा रहे हैं। एनएसडीएल और यूटीआईआईटीएसएल लोगों का पैन कार्ड बना रही हैं। ऑफलाइन पैन कार्ड के लिए भी एनएसडीएल और यूटीआईआईटीएसएल की तरफ ही रुख करना पड़ेगा। इसमें सबसे जरूरी है कि पैन कार्ड के लिए आप किस तरह के दस्तावेज लगा रहे हैं। बहुत से लोग मांगे गए दस्तावेज की जगह पर दूसरे डाक्यूमेंट्स लगाते हैं, जिसका उनके पैन कार्ड बनाने की प्रक्रिया रुक जाती है। बाद में उन्हें दोबारा फार्म भरना पड़ता है। ऐसा न हो, इसके लिए हम आपको बता रहे हैं कि पैन कार्ड के फार्म के साथ क्या दस्तावेज लगाएं, जिसकी वजह से आपका पैन कार्ड एक ही बार में बनकर आपके पते पर पहुंच जाए।

  • पासपोर्ट की कॉपी
  • केंद्र सरकार की ओर से जारी ओरिजिन कार्ड
  • कॉपी ऑफ ओवरसीज सिटिजनशिप ऑफ इंडिया कार्ड, जो भारत सरकार की ओर से जारी किया गया हो
  • उस देश का पहचानपत्र जहां के आप मूल निवासी हैं
  • एडरेस पू्रफ डॉक्यूमेंट
  • भारत सरकार की ओर से जारी ओरिजिन कार्ड
  • कॉपी औफ ओवरसीज सिटिजननशिप कार्ड, जो भारत सरकार की ओर से जारी किया गया हो
  • उस देश के बैंक अकाउंट की कॉपी, जहां के आप मूल निवासी हैं
  • कॉफी ऑफ रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट
  • कॉफी ऑफ वीजा

कंपनी के लिए जरूरी दस्तावेज | required documents for company

सरकार ने कंपनी के लिए भी अलग-अलग नियम बनाए हैं। जो लोग मूल रूप से विदेशी हैं, लेकिन भारत में रहकर कोई  कंपनी चला रहे हैं तो हम बता रहे हैं कि उन्हें किस तरह के दस्तावेज लगाने की जरूरत है। याद रहे कि बिना पैन कार्ड विदेशी नागरिक भारत में रहकर कारोबार नहीं कर सकते हैं। इसलिए भारत सरकार ने भारतीयों के साथ ही विदेशी नागरिकों के लिए भी पैन कार्ड जरूरी किया है। इसलिए इस सीरीज में बताया जा रहा है कि कंपनी चलाने वाले विदेशी नागरिकों को पैन कार्ड के लिए किस तरह के दस्तावेज लगाने की जरूरत पड़ेगी।

  1. कॉपी ऑफ रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट, जो कंपनी के रजिस्ट्रार की ओर से जारी किया गया हो
  2. जो कंपनी भारत के बारह चल रही हैं, उनके लिए किस तरह की दस्तावेज की जरूरत है।
  3. सर्टिफिकेट ऑफ रेसिडेंट्स कॉपी, जो उस देश की ओर से जारी किया गया हो, जहां के आप मूल निवासी हैं
  4. कॉपी ऑफ रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट, जो भारत सरकार की ओर से जारी किया गया हो। उस कंपनी की तरफ से इसे पू्रफ भी किया गया हो

ऑफलाइन फार्म भी | offline form too

ऐसा नहीं है कि आपको ऑनलाइन पर ही निर्भर रहना पड़ेगा। अगर आप ऑनलाइन फार्म नहीं भरना चाहते तो ऑफलाइन विकल्प भी आपके पास है। इसके लिए आपको एनएसडीएल और यूटीआईआईटीएसएल की वेबसाइट से फार्म डाउनलोड करना पड़ेगा। अगर फार्म के लिए आप एनएसडीएल और यूटीआईआईटीएसएल की वेबसाइट पर विजिट नहीं करना चाहते तो कोई बात नहीं है। सरकार ने कई सारी एजेंसी को यह काम सौंप रखा है। आप उनके जिला स्तरीय कार्यालय पर पहुंचकर फार्म हासिल कर सकते हैं। ऑफलाइन फार्म भरने के बाद उसे वहीं पर जमा भी कर दें। औपचारिकताएं पूरी होने के बाद आपका पैन कार्ड पंद्रह दिन के अंदर घर के पते पर पहुंच जाएगा।

रिर्टन भरने के लिए जरूरी | required for return

सरकार ने रिटर्न फाइल करने के लिए पैन कार्ड को जरूरी कर दिया है। अगर आपके पास पैन नंबर नहीं है तो आप रिटर्न फाइल नहीं कर सकते। इसी तरह रिफंड, टीडीएस और टैक्स जमा करने के लिए भी पैन कार्ड की जरूरत पड़ती है। आयकर विभाग का मानना है कि पैन नंबर के साथ रिटर्न फाइल करना आसान हो जाता है। इसके लिए अलावा अगर विभाग को किसी तरह की स्कू्रटनी की जरूरत पड़ी तो पैन नंबर के आधार पर करदाता का इतिहास खंगाला जा सकता है। करदाता किसी भी शहर या प्रदेश में रहकर टैक्स जमा करें, उनके बारे में आसानी से पता लगाया जा सकता है। सिस्टम पर पैन नंबर डालते ही यह भी पता चल जाएगा कि करदाता किसी शहर से ताल्लुक रखते हैं और कहां टैक्स जमा कर रहे हैं।

टाइप ऑफ पैन कार्ड | type of pan card

पैन कार्ड कई तरह के होते हैं। आयकर विभाग ने सभी तरह के टैक्स पेयर कंपनी और इंडिविजुअली कर देने वालों के लिए पैन कार्ड अनिवार्य कर दिया है। यही वजह है कि अलग-अलग लोगों और कंपनियों को ध्यान में रखकर ही कई तरह के कार्ड भी बनाए जा रहे हैं।

  • पैनकार्ड डायरेक्ट टैक्स अदा करने के लिए जरूरी है
  • फर्म और कंपनी रजिस्ट्रेशन के लिए भी पैन की जरूरत पड़ती है
  • फोरव्हीलर और टू व्हीलर को खरीदने और बेचने के लिए भी पैन कार्ड की जरूरत पड़ती है। होटल आदि जगहों पर 25 हजार से ज्यादा का पेमेंट करने के लिए भी कार्ड मांगे जाते हैं
  • बैंकों में 50 हजार से ज्यादा के लेनदेन पर भी पैन कार्ड मांगे जाते हैं
  • किसी भी तरह की म्यूचुअल फंड स्कीम के लिए भी कार्ड की जरूरत पड़ती है
  • पचास हजार से ज्यादा के शेयर खरीदने पर भी कार्ड का यूनिक नंबर बताना होता है
  • पचास हजार से ज्यादा की बीमा पॉलिसी के लिए भी आपको पैन कार्ड दिखाना होगा

About Ashutosh Srivastava

हिंदी पत्रकारिता में 21 वर्ष का अनुभव। दैनिक जागरण और अमर उजाला में लंबा समय दिया।

Check Also

पैन कार्ड : रिफंड के लिए कैसे करें अप्लाई | pan card : how to apply for refund in hindi

यह पूरी तरह से इलेक्ट्रानिक दौर है। हर जेब में मोबाइल है और हर घर …