Home / pradhanmantri yojana / sarkari yojana / Himachal pradesh / मुख्यमंत्री अल्पसंख्यक कल्याण योजना । Mukhyamantri alpsankyak kalyan yojana in hindi

मुख्यमंत्री अल्पसंख्यक कल्याण योजना । Mukhyamantri alpsankyak kalyan yojana in hindi

हिमाचल प्रदेश की सरकार ने अल्पसंख्यकों खासकर मुस्लिम परिवारों के कल्याण के लिए मुख्यमंत्री अल्पसंख्यक कल्याण योजना की शुरुआत की है। इस योजना के तहत गरीब मुसलमानों के परिवारों को बेटियों की शादी, बीमारी में आर्थिक सहायता तो प्रदान की ही जाएगी, उनको पेंशन का लाभ भी मिलेगा। योजना की शुरुआत अगस्त 2018 में की गई थी।

hp

यह है मुख्यमंत्री अल्पसंख्यक कल्याण योजना

अब तीनों योजनाओं के बारे में विस्तार से जान लीजिए। मुस्लिम परिवारों को बेटियों की शादी के लिए राज्य सरकार की तरफ से 25 हजार रुपये की आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है। इसी तरह अल्पसंख्यकों को बीमारी में इलाज के लिए 5 हजार रुपये दिए जाते हैं। वृद्ध, विधवा व दिव्यांग मुसलमानों को 400 रुपये की पेंशन भी दी जाती है। पेंशन योजना को सामाजिक सुरक्षा पेंशन कहा जाता है। अब योजनाओं के बारे में अलग-अलग विस्तार से जान लीजिए।

 विवाह अनुदान योजना

  • यह अनुदान उन मुस्लिम परिवारों को बेटियों की शादी के लिए दिया जाता है जो आर्थिक रूप से कमजोर हैं।
  • परिवार को शादी के लिए 25 हजार रुपये दिए जाते हैं। शादी के वक्त बेटी की आयु 18 वर्ष से कम नहीं होनी चाहिए।
  • आयु प्रमाण पत्र के तौर पर परिवार को बेटी के शैक्षणिक सर्टिफिकेट को प्रस्तुत करना होगा।
  • परिवार को आय प्रमाण पत्र भी प्रस्तुत करना होगा।
  • शादी का कार्ड व शौहर के बारे में भी डिटेल देनी होगी।
  • यह प्रमाणित करना होगा कि विवाह के लिए मिलने वाले रुपये को कहीं और खर्च नहीं किया जाएगा।
  • आर्थिक मदद बेटी के गृहस्थी के जरूरी सामानों की खरीद के लिए दी जाती है।
  • बेटी के अकाउंट की डिटेल भी फार्म के साथ ही देनी होगी। अगर बेटी का अकाउंट अब तक नहीं खुला है तो तत्काल अपने घर के पास के राष्ट्रीय कृत बैंक की शाखा में जाएं और जनधन अकाउंट खुलवा लें।
  • रुपये सीधे बेटी के बैंक अकाउंट में ही भेजे जाएंगे।

 चिकित्सा उपचार योजना

  1. इस योजना का लाभ गरीब मुस्लिम परिवारों को मिलेगा। परिवार को रुपये के लिए बीमारी का प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना होगा।
  2. बीमारी की जांच सरकारी अस्पताल में ही होनी चाहिए। लाभ गरीबों को मिलेगा। इसलिए लाभार्थी को आय प्रमाण पत्र भी प्रस्तुत करना होगा।
  3. बीमारी कब से है और इलाज कहां चल रहा था, इसकी डिटेल भी फार्म में भरनी होगी।
  4. परिवारों को यह मदद दवाओं की खरीद व जांच के लिए दी जाएगी।
  5. एक ही परिवार के दो सदस्य इस योजना के तहत आर्थिक लाभ सरकार की ओर से प्राप्त कर सकते हैं।
  6. बीमारी गंभीर किस्म की होनी चाहिए जिसमें इलाज लंबा चलता हो। यानि खांसी, जुकाम या बुखार के इलाज के लिए यह योजना नहीं है।
  7. सरकारी अस्पतालों में गरीबों को मुफ्त जांच व उपचार की सुविधा भी मिलेगी। भर्ती होने पर भी उनका फ्री में इलाज होगा।

 सामाजिक सुरक्षा पेंशन

  • राज्य सरकार ने मुस्लिम समुदाय के वृद्ध, विधवा व दिव्यांग लोगों के लिए पेंशन की सुविधा शुरू की है।
  • पेंशन के रूप में हर महीने मुस्लिम वृद्ध, विधवा व दिव्यांगजनों को 400 रुपये प्रदान किए जाएंगे।
  • वृद्ध को आयु प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना होगा। आयु 60 वर्ष या इससे अधिक होनी चाहिए।
  • लाभार्थी को बीपीएल कार्ड यानि गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने का प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना होगा।
  • विधवा पेंशन के लिए लाभार्थी को पति की मृत्यु का प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना होगा।
  • विधवा को निवास प्रमाण पत्र व वर्तमान में व्यवसाय न करने का प्रमाण पत्र भी जमा करना होगा।
  • दूसरा विवाह कर लेने पर योजना का लाभ नहीं मिलेगा।
  • लाभ मिलने के दौरान ही दूसरी शादी कर लेने पर विधवा पेंशन को बंद कर दिया जाएगा।
  • दिव्यांग मुस्लिम को पेंशन के लिए विकलांगता का प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना होगा।
  • विकलांगता प्रमाण पत्र सरकारी अस्पताल से जारी किया हुआ होना चाहिए।
  • इसके साथ ही बैंक अकाउंट की डिटेल भी देनी होगी। दिव्यांग को व्यवसाय या नौकरी की जानकारी भी देनी होगी।
  • रोजगार के अन्य साधन उपलब्ध होने पर पेंशन योजना बंद कर दी जाएगी।

 आवश्यक दस्तावेज

  1. आधार कार्ड
  2. पते का प्रमाण पत्र
  3. आय का प्रमाण पत्र
  4. आयु का प्रमाण पत्र
  5. विकलांगता प्रमाण पत्र

About Ashutosh Srivastava

हिंदी पत्रकारिता में 21 वर्ष का अनुभव। दैनिक जागरण और अमर उजाला में लंबा समय दिया।

Check Also

idbi

आईडीबीआई भर्ती 2019 । IDBI Recruitment 2019

बैंकों में नौकरी की तलाश कर रहे युवाओं के लिए अच्छी खबर है। इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट …