Home / pradhanmantri yojana / sarkari yojana / chattisgarh / छत्तीसगढ़ बाल हृदय सुरक्षा योजना । Chattisgarh bal heart surachha yojana in Hindi

छत्तीसगढ़ बाल हृदय सुरक्षा योजना । Chattisgarh bal heart surachha yojana in Hindi

छत्तीसगढ़ में दिल की बीमारी बड़ी समस्या बन गई है। बड़े और बूढ़े तो दिल के मरीज हो ही रहे हैं, बच्चों के अंदर भी यह रोग तेजी से बढ़ रहा है। छत्तीसगढ़ में ऐसे बच्चों की बड़ी संख्या है, जो गंभीर रूप से दिल के मरीज बन चुके हैं। छत्तीसगढ़ सरकार ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए बाल हृदय सुरक्षा योजना की शुरुआत की है।

इस योजना के तहत बच्चों का इलाज कराया जाएगा। सरकारी अस्पताल से लेकर निजी अस्पतालों तक में इलाज की सुविधा रहेगी। अगर किसी बच्चे की बीमारी ज्यादा गंभीर है और उनके परिवार के लोग किसी दूसरे शहरों में मौजूद बड़े अस्पतालों में इलाज कराना चाहते हैं तो उनकी मदद भी की जाएगी। सरकार ने इसका खाका तैयार कर लिया है। तो चलिए हम आपको बताते हैं कि बाल हृदय सुरक्षा योजना क्या है और आप इस योजना से किस तरह फायदा उठा सकते हैं।

छत्तीसगढ़ बाल हृदय सुरक्षा योजना के लाभ

  • छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा शुरू की गई बालहृदय सुरक्षा योजना के तहत पंद्रह साल तक के बच्चे, जो दिल की बामारियों से पीड़ित हैं, उनका इलाज कराया जाता है।
  • दिल की बीमारियों की श्रेणी बनाई गई है। इसमें दिल की सात तरह की बीमारियां शामिल की गई हैं।
  • दिल की साधारण सर्जरी के लिए 1.30 लाख रुपये की मदद दी जाएगी। इसी तरह जटिल सर्जरी के लिए 1.50 लाख रुपये की मदद सरकार की तरफ से दी जाएगी।
  • इसी तरह अगर किसी बच्चे के दिल में ब्लाकेज हैं तो वाल्व रिप्लेसमेंट के लिए इस योजना के तहत 1.80 लाख रुपये की मदद दी जाएगी।
  • इस योजना के तहत पहले तो स्थानीय मेडिकल कॉलेज में इलाज करने की कोशिश की जाएगी, अगर ऐसा नहीं हुआ तो मरीजों को रेफर भी किया जा सकता है।
  • मेडिकल कॉलेज की ओर से रेफर करने पर बीमार बच्चों के इलाज में होने वाले खर्च की अदायगी चेक के रूप में की जाएगी।
  • सरकार की तरफ से बीमारी के इलाज के लिए करीब एक लाख तीस हजार रुपये का चेक प्रदान किया जाएगा।
  • इन पैसों का इस्तेमाल कर परिवार के लोग अपने बच्चे का इलाज दूसरे शहर या दूसरे प्रदेश के किसी बड़े अस्पताल में भी करा सकते हैं।
  • सरकार की तरफ से हालांकि जिन अस्पतालों में इजाज की सुविधा दी गई है, उनका चयन भी कर लिया गया है।

योजना के लिए पात्रता

  1. छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा शुरू की गई बाल हृदय सुरक्षा योजना का लाभ उन्हीं परिवार वालों को मिलेगा, जो मूल रूप से छत्तीसगढ़ के निवासी हैं।
  2. किसी प्रदेश के निवासी होने पर इस योजना का लाभ नहीं मिलेगा। सरकार ने इसके लिए सभी विभागों को एक सुर्कलर जारी कर दिया है।
  3. इस योजना के तहत वही लोग अपने बच्चे का इजाज करा सकते हैं, जो गरीब परिवार से ताल्लुक रखते हैं।
  4. ऐसे परिवार वालों की सालाना आय एक लाख रुपये अधिक नहीं होना चाहिए। सरकार ने गाइडलाइन जारी कर दिया है।
  5. किसी सरकारी कर्मचारी को इस योजना का लाभ नहीं मिलेगा। निजी कंपनियों में काम करने वाले उन कर्मचारियों को भी इस योजना का लाभ नहीं मिलेगा, जिनकी सालाना आय एक लाख रुपये से ज्यादा है।

योजना के लिए जरूरी दस्तावेज

  • वोटर आई कार्ड
  • आधार कार्ड
  • निवासी प्रमाणपत्र
  • आय प्रमाणपत्र
  • मेडिकल प्रमाणपत्र
  • पासपोर्ट साइज फोटो

अस्पतालों का चयन

छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा शुरू की गई बाल हृदय सुरक्षा योजना के लिए अस्पतालों का चयन भी कर लिया गया है। लोग अपने बच्चे का इलाज, अपोलो अस्पताल बिलासपुर, अपोलो अस्पताल भिलाई, नारायण हृदयालय एमएमआई रायपुर, रामकृष्ण केयर अस्पताल रायपुर, नारायण अस्पताल रायपुर, बालाजी अस्पताल रायपुर, स्कार्ट हार्ट सेंटर रायपुर में करा सकते हैं। खास बात यह है कि अगर किसी वजह से बच्चों का इलाज इन अस्पतालों में नहीं हो सकता हे तो मेडिकल कॉलेज के रेफर लेटर पर लोग अपने बच्चों का इलाज किसी दूसरे शहरों में मौजूद अस्पतालों में भी करा सकते हैं। इसके लिए परिवार वालों को सरकार की तरफ से चेक से भुगतान किया जाएगा।

ऑनलाइन आवेदन भी कर सकते हैं

  1. छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा शुरू की गई बाल हृदय सुरक्षा योजना के तहत ऑफलाइन और ऑनलाइन दोनों तरह से आवेदन कर सकते हैं।
  2. अगर आप बाल हृदय सुरक्षा योजना के तहत ऑनलाइन आवेदन करना चाहते हैं तो आपको सरकार की अफीशियल वेबसाइट पर क्लिक करना होगा।
  3. छत्तीसगढ़ सरकार की अफीशियल वेबसाइट पर क्लिक करने के बाद आपको इस योजना का ऑप्शन दिख जाएगा।
  4. इस ऑप्शन पर क्लिक करने के बाद आपकी स्क्रीन पर एप्लीकेशन फार्म ओपन हो जाएगा। फार्म को ध्यानपूवर्क पढ़ें।
  5. फार्म को पढ़ने के बाद आपसे योजना से जुड़ी, जो भी जानकारी मांगी जा रही है, उसे फार्म पर दर्ज करें।
  6. फार्म पर जो भी कॉलम दिखाई पड़े, उसी सही-सही भरें। गड़बड़ी होने पर फार्म सबमिट नहीं होगा।
  7. सभी कॉलम ठीक तरह से भरने के बाद आपको सबमिट का ऑप्शन दिखाई पड़ेगा, जिसपर क्लिक करना होगा।
  8. सबमिट के ऑप्शन पर क्लिक करते ही फार्म भरने की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी। आप इसका प्रिंटआउट अपने पास रख सकते हैं।

योजना का मकसद

छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा शुरू की गई बाल हृदय सुरक्षा योजना का पहला मकसद गंभीर रूप से बीमार बच्चों को इलाज मुहैया कराना है। उनके इलाज में जो भी खर्च आएगा, सरकार तय नियम के हिसाब से उसकी भरपाई करेगी। सरकारी नुमाइंदों के मुताबिक छोटी उम्र में दिल का रोग लग जाने पर बच्चों की जिंदगी तो खतर में पड़ ही जाती है, परिवार के लोग भी परेशान हो जाते हैं।

यही वजह है कि सरकार ने ऐसा कदम उठाया है, जिससे बच्चे इलाज के बाद सामान्य जिंदगी गुजार सकें। यही नहीं, इस योजना के तहत लोगों को जागरूक करने का काम भी किया जाएगा। उन्हें समझाया जाएगा कि दिल की बीमारी क्या है और इसका इलाज कहां तक संभव है। लोगों को खान-पान पर ध्यान देने को लेकर भी समझाया जाएगा।

About Mohd. razi

हिंदी पत्रकारिता में 14 वर्ष का अनुभव। दैनिक जागरण और अमर उजाला में काफी वक्त दिया।

Check Also

ssc chsl recruitment

एसएससी सीएचएसएल भर्ती-2019 । SSC CHSL recruitment-2019

एसएससी विभिन्न पदों पर बंपर भर्ती करने जा रहा है। इसमें सीएचएसएल यानी कंबाइंड हायर …