Home / pradhanmantri yojana / sarkari yojana / chattisgarh / छत्तीसगढ़ सौर सुजला योजना । Chattisgarh saur sujala yojana in Hindi

छत्तीसगढ़ सौर सुजला योजना । Chattisgarh saur sujala yojana in Hindi

भारत एक कृषि प्रधान देश है। छत्तीसगढ़ में भी किसानों की बड़ी संख्या है। आय का बड़ा स्रोत खेती ही है, जिससे छत्तीसगढ़ सरकार को भी मदद मिलती है। किसान अगर खुश रहेंगे तो प्रदेश की तरक्की और बढ़ेगी। न सिर्फ तरक्की होगी, बल्कि प्रदेश की आर्थिक स्थिति भी सुधरेगी। यही वजह है कि छत्तीसगढ़ सरकार ने सौर सुजला योजना की शुरुआत की है। इस योजना के तहत जहां किसानों की समस्याओं को खत्म करना है, वहीं पानी की उपलब्धता बढ़ाकर खेती को भी बढ़ाना है।

किसानों को इस योजना के तहत बीमा का लाभ भी दिया जाएगा, जो उनके लिए कारगर साबित होगा। खास बात यह है कि किसानों को मुफ्त में बिजली भी मिल सकेगी। तो चलिए हम आपको बताते हैं कि सौर सुजला, यानी सोलर पंप सब्सिडी योजना क्या है और आप इस योजना से किस तरह फायदा हासिल कर सकते हैं।

छत्तीसगढ़ सौर सुजला योजना के लिए कैसे करें आवेदन

  • छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा शुरू की गई सौर सुजला योजना के तहत ऑफलाइन और ऑनलाइन दोनों तरह से आवेदन कर सकते हैं।
  • अगर आप सौर सुजला योजना के तहत ऑनलाइन आवेदन करना चाहते हैं तो आपको सरकार की अफीशियल वेबसाइट पर क्लिक करना होगा।
  • छत्तीसगढ़ सरकार की अफीशियल वेबसाइट पर क्लिक करने के बाद आपको सौर सुजला योजना का ऑप्शन दिख जाएगा।
  • इस ऑप्शन पर क्लिक करने के बाद आपकी स्क्रीन पर एप्लीकेशन फार्म ओपन हो जाएगा। फार्म को ध्यानपूवर्क पढ़ें।
  • फार्म को पढ़ने के बाद आपसे सौर सुजला योजना से जुड़ी जो भी जानकारी मांगी जा रही है, उसे फार्म पर दर्ज करें।
  • फार्म पर सोलर पंप सब्सिडी योजना से जुड़े जो भी कॉलम दिखाई पड़े, उसी सही-सही भरें। गड़बड़ी होने पर फार्म सबमिट नहीं होगा।
  • सभी कॉलम ठीक तरह से भरने के बाद आपको सबमिट का ऑप्शन दिखाई पड़ेगा, जिसपर क्लिक करना होगा।
  • सबमिट के ऑप्शन पर क्लिक करते ही फार्म भरने की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी। आप इसका प्रिंटआउट अपने पास रख सकते हैं।

दो तरह के पंप दिए जाएंगे

छत्तीसगढ़ सरकार सौर सुजला योजना के तहत किसानों को दो तरह के पंप देगी। छोटे किसानों को थ्री हॉर्स पॉवर का पंप दिया जाएगा, जबकि बड़े किसानों को पांच हॉर्स पॉवर का पंप दिया जाएगा। पांच हार्स पॉवर के पंप की कीमत बाजारों में करीब  साढ़े चार लाख रुपये है, जो इस योजना के तहत बेहद काम दाम में दिए जाएंगे। इसी तरह थ्री हॉर्स पॉवर के पंप की कीमत बाजारों में करीब साढ़े तीन लाख रुपये हैं, जो सौर सुजला योजना के तहत कम कीमतों पर दिए जाएंगे। जानकारों के मुताबिक सरकारी की ओर से सब्सिडी दिए जाने के बाद किसान इन पंपों को बीस हजार रुपये तक में आसानी से खरीद सकते हैं।

पचास हजार किसानों को मिलेगा फायदा

छत्तीसगढ़ सरकार सौर सुजला योजना के तहत प्रदेश के पचास हजार किसानों को लाभाविंत करेगी। पंप के लिए किसानों का चयन करने का काम कृषि विभाग को सौंपा गया है। विभाग ने कृषि से जुड़े दूसरे विभागों से किसानों की सूची मांगी है। इसके लिए नोडल एजेंसी का गठन भी किया गया, जो इस काम में मदद करेगी। सरकारी नुमाइंदों के मुताबिक किसानों को इस योजना से काफी फायदा होगा। उन्हें पानी की समस्या से निजात तो मिलेगी ही, बिजली की खपत भी बचेगी, जिसका इस्तेमाल वह दूसरी चीजों में कर सकेंगे।

योजना के लिए जरूरी दस्तावेज

  1. किसानों के पास पहचान पत्र होना चाहिए
  2. निवास यानी रिहायशी प्रमाणपत्र भी हो
  3. आधार कार्ड की कॉपी भी होना चाहिए
  4. किसानों को बैंक खाता विवरण भी देना होगा
  5. किसानों को अपना मोबाइल नंबर भी देना होगा
  6. किसानों को एसएमएस के जरिए भेजी जाएगी सूचना

वेबसाइट पर करें विजिट

अगर आपको छत्तीसगढ़ सरकार की सौर सुजला योजना के बारे में और ज्यादा जानकारी हासिल करनी है तो आप सीधे क्रेडा की अफीशियल वेबसाइट www.creda.in पर विजिट कर सकते हैं। यहां आप अपनी सुविधा के हिसाब से इस योजना से जुड़े दूसरी तमाम जानकारी भी आसानी से हासिल कर सकते हैं।

ऑफलाइन आवेदन भी कर सकते हैं

छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा शुरू की गई सोलर पंर सब्सिडी योजना के तहत ऑफलाइन आवेदन भी किया जा सकता है। ऑफलाइन आवेदन के लिए किसानों को निगम कार्यालय तक जाना होगा। तहसील स्तर पर भी व्यवस्था की जा रही है, ताकि ग्रामीण इलाकों में रहने वाले किसानों को मौके पर ही इस योजना का लाभ मिल सके।।

बिजली की बचत होगी

छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा शुरू की गई सोलर पंप सब्सिडी योजना के तहत किसानों को कई फायदे पहुंचाए जा रहे हैं। किसानों को बड़ी लागत के पंप दिए जाएंगे, वहीं उनके पंपों का बीमा भी कराया जाएगा। इस योजना की सबसे खास बात यह है कि किसानों को दिन में फ्री बिजली मिल सकेगी। सरकार ने साफ कर दिया है कि बिजली को लेकर किसानों से किसी भी तरह का चार्ज नहीं लिया जाएगा।

बीस फीसदी जमीन पर होती है खेती

छत्तीसगढ़ में पहाड़ी और पथरीली जमीन ज्यादा है। इसलिए यहां पानी की समस्या हमेशा रहती है। जानकारों के मुताबिक छत्तीसगढ़ में बीस फीसदी ही जमीन ऐसी है, जहां खेती की जा सकती है। सरकार ने इसी को ध्यान में रखते हुए सौर सुजला योजना की शुरुआत की है। इस योजना के तहत किसानों को जहां आसानी से पानी मिल जाएगा, वहीं उनकी बिजली भी बचेगी। जबकि बाजारों में इस तरह के पंप की कीमत बहुत ज्यादा है। किसानों को मामूली कीमत पर ही पंप दिए जा रहे हैं। पंप की लागत का 90 फीसदी खर्च खुद छत्तीसगढ़ सरकार वहन करेगी।

About Mohd. razi

हिंदी पत्रकारिता में 14 वर्ष का अनुभव। दैनिक जागरण और अमर उजाला में काफी वक्त दिया।

Check Also

idbi

आईडीबीआई भर्ती 2019 । IDBI Recruitment 2019

बैंकों में नौकरी की तलाश कर रहे युवाओं के लिए अच्छी खबर है। इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट …