Breaking News
Home / pradhanmantri yojana / sarkari yojana / pradhanmantri yojana / प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना । pradhanmantri kaushal vikas yojana PMKVY in hindi

प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना । pradhanmantri kaushal vikas yojana PMKVY in hindi

देश के युवा नौकरी के पीछे भागने वाले नहीं बल्कि नौकरी देने वाले बनें, इस सोच को सच बनाने के लिए भारत सरकार ने प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना की शुरुआत की है। इस योजना के तहत प्रशिक्षित लाखों युवक अपनी जिंदगी को बदल चुके हैं। इस योजना का उद्देश्य युवाओं में कौशल का विकास करना है ताकि वे अपने लिए बेहतर भविष्य का निर्माण कर सकें। इस योजना का संचालन मिनिस्ट्री ऑफ स्किल डेवलपमेंट एंड एंट्रेपेनरशिप द्वारा किया जाता है।

pmkvy

देश के सभी शहरों, प्रमुख कस्बों में कौशल विकास केंद्र खोले गए हैं, जहां युवाओं को हुनरमंद बनाया जा रहा है। इस योजना के पहले चरण में 24 लाख युवाओं को प्रशिक्षित करने का लक्ष्य रखा गया था। कौशल विकास केंद्रों में प्रशिक्षण पाए युवाओं को सर्टिफिकेट दिया जाता है और प्लेसमेंट के भी प्रबंध किए जाते हैं। कौशल विकास केंद्रों से प्रशिक्षित लाखों युवा मुद्रा योजना के माध्यम से लोन लेकर अपना खुद का रोजगार शुरू कर चुके हैं।

प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के विषय और कोर्स

कौशल विकास केंद्रों पर युवाओं को जिस फील्ड का प्रशिक्षण दिया जाता है, उनके एक या इससे अधिक कोर्स संचालित किए जा रहे हैं। कृषि के 10, घर सज्जा के 9, सौंदर्य एवं कल्याण के 7, मोटर वाहन के 10, बीएफएसआई के 6, पूंजीगत वस्तुओं के 6, निर्माण कार्य के 7, घरेलू कार्य के 4, इंफ्रास्ट्रक्चर के 10, फूड प्रोसेसिंग के 5, फर्नीचर और फिटिंग के 2, रत्न और ज्वैलरी के 9, ग्रीन जॉब के 5, हस्तशिल्प के 8, स्वास्थ्य देखभाल के 8, आयरन एंड स्टील के 9, आईटी और आईटीईएस के 6, चमड़ा के 6, जीव विज्ञान के 5, लॉजिस्टिक के 8, मीडिया एवं एंटरटेनमेंट के 8, खनिज के 9, पेंट एवं कोटिंग का 1, पाइपलाइन के 3, बिजली के 6, खुदरा व्यापार के 6, रबर के 3, सिक्योरिटी सर्विसेज के 9, स्पोर्ट्स का एक, दूरसंचार के 3, हैंडलूम के 10 और टूरिज्म के 9 कोर्स चलाए जा रहे हैं।

कैसे करें आवेदन

  • सबसे पहले कौशल विकास योजना की आधिकारिक वेबसाइट http://www.pmkvyofficial.org/ पर जाएं।
  • जैसे ही आप होम पेज पर पहुंचेंगे, वहां पर फार्म का ऑप्शन दिखाई देगा। इसको क्लिक करें। फार्म आपके कंप्यूटर स्क्रीन पर ओपन हो जाएगा।
  • इसमें अपना नाम, पिता का नाम, जन्म तिथि, पता, ईमेल को भरें। एक बात का ध्यान रखें। आपने जो पता भरा है, उसका प्रमाण पत्र यानि आधार कार्ड व वोटर आईडी कार्ड आपके पास होना चाहिए।
  • इसके बाद आपको उस टेक्निकल फील्ड का चयन करना है, जिसके लिए प्रशिक्षण प्राप्त करना है। इसी वेबसाइट पर आपको सभी फील्ड की लिस्ट और उनके कोर्स की जानकारी मिल जाएगी। इसमें से एक का चयन करें।
  • आपको पसंदीदा क्षेत्र के अलावा एक और क्षेत्र के चयन का भी अवसर मिलेगा। जैसे ही आप दोनों ऑप्शन को चूज कर लें फिर केंद्र को सर्च करें।
  • आपको अपने एरिया के आसपास खुले प्रशिक्षण केंद्रों की लिस्ट मिल जाएगी। केंद्र का चयन करने के बाद आप सबमिट के बटन को दबा दें।

अन्य प्रक्रिया

  • कौशल प्रशिक्षण कार्यक्रम को पूरा करने के बाद आपको सर्टिफिकेट प्रदान किया जाता है। आपको रिवार्ड पाने का अवसर भी मिलता है।
  • जिस केंद्र पर आप प्रशिक्षण प्राप्त करेंगे, वह आपसे जुड़ी जानकारियां प्रशिक्षण की आधिकारिक वेबसाइट http://www.pmkvyofficial.org/SDMSTraining.aspx पर अपलोड कर देगी।
  • एसडीएमएस की वेबसाइट पर मिली रेटिंग के आधार पर अभ्यर्थी के लिए रिवार्ड प्वाइंट भी बनेंगे। इससे यह पता चल सकेगा कि आपने प्रशिक्षण से क्या-क्या सीखा और कितने हुनरमंद बने।
  • इसी आधार पर सरकारी एजेंसी रिवार्ड के बदले आपके लिए प्रोत्साहन राशि देगी। प्रोत्साहन राशि 8000 रुपये तक होगी।

आवेदन के मापदंड

  • यह योजना भारत के नागरिकों के लिए शुरू की गई है। भारत में रह रहे पड़ोसी देशों के युवाओं को इसका लाभ नहीं मिलेगा। भारतीयों को देश में कहीं भी प्रशिक्षण प्राप्त करने की छूट है।
  • आवेदक को चुने गए तकनीकी क्षेत्र का प्रारंभिक ज्ञान होना आवश्यक है। प्रशिक्षण के दौरान उसको तकनीक की बारीकियां सिखाई जाएंगी।
  • आवेदक कौशल विकास केंद्र पर एक अन्य कोर्स का भी चयन कर सकता है जिसके लिए वह प्रशिक्षण प्राप्त कर सकता है। यह अभ्यर्थी को तय करना होगा कि उसके लिए दूसरा कौन सा कोर्स फायदेमंद होगा।
  • यह बात अच्छी तरह याद रखें। आपको रिवार्ड एक ही बार में दिया जाएगा। अगर कोई किस्त का झांसा दे तो बातों में न आइएगा। रिवार्ड सरकार देती है नाकि प्रशिक्षण देने वाला केंद्र।

फीस

भारत सरकार ने यह योजना कमाई के लिए नहीं बल्कि युवाओं को प्रशिक्षित करने के लिए शुरू की है। सरकार का उद्देश्य है कि युवा हुनरमंद होकर निकलें और अपने गांव, कस्बे या शहर में इससे स्वरोजगार शुरू कर सकें। सरकार ने प्रशिक्षण का कार्यक्रम नि:शुल्क रखा है। यानि ट्रेनिंग के बदले आपसे एक भी रुपये नहीं लिए जाएंगे।

अगर प्रशिक्षण को लेकर आपसे कोई रुपये मांगता है तो तत्काल इसकी शिकायत जिला स्तर के अधिकारियों से करें। इस योजना को उन युवाओं के लिए शुरू किया गया है जो पारिवारिक जिम्मेदारियों के चलते आगे पढ़ाई नहीं कर पाते हैं और उनको रोजगार के लिए छोटे-मोटे काम शुरू करने पड़ते हैं।

कौशल विकास केंद्रों का उद्देश्य है कि युवा जिस क्षेत्र में काम कर रहे हैं, उसमें उनको और हुनरमंद बनाया जाए और तकनीकी जानकारी दी जाए।

3 से छह महीने के होते हैं कोर्स

कौशल विकास केंद्र के अंतर्गत जो भी कोर्स चलाए जाते हैं, वह लांग टर्म के नहीं होते। हर कोर्स के लिए अलग-अलग अवधि निर्धारित है। अधिकांश कोर्स तीन से लेकर छह महीने तक के हैं। इस अवधि में युवा अपनी फील्ड की बारीकियां सीख लेते हैं। कुछ ही कोर्स एक साल के हैं। एक साल से अधिक की अवधि का कोई कोर्स शामिल नहीं किया गया है।

ऐसे मिलता है रिवार्ड

रिवार्ड व मूल्यांकन के लिए केंद्र सरकार ने प्रक्रिया तय कर रखी है। इसमें कोई मनमानी नहीं कर सकता है। प्रशिक्षण प्राप्त करने वाले युवाओं को 8000 रुपये का रिवार्ड दिया जाता है। स्तर एक व दो के तहत प्रशिक्षण प्राप्त करने वाले युवाओं को 7500 रुपये दिए जाते हैं। जबकि स्तर 3 व 4 के अंतर्गत प्रशिक्षण ले रहे युवाओं को 10000 रुपये प्रदान किए जाते हैं। जो युवा स्तर 5 व 6 के कोर्स को पूरा करते हैं, वे 12,500 रुपये पाने के हकदार बन जाते हैं।

कैसे होता है प्लेसमेंट

कौशल विकास केंद्र में प्रशिक्षण प्राप्त करने वाले युवा अपना खुद का काम तो शुरू कर सकते हैं ही, उनको रोजगार दिलाने का प्रयास सरकार की ओर से भी किया जाता है। सरकार जिला स्तर पर रोगजार दफ्तरों के माध्यम से प्लसमेंट मेला का आयोजन भी कराती हैं। इसमें कंपनियां आती हैं और प्रशिक्षित युवाओं में से कुछ का चयन करती हैं।

सर्टिफिकेट को महत्व देती हैं कपंनियां

कौशल विकास केंद्रों से प्राप्त होने वाले सर्टिफिकेट को कंपनियां बहुत वैल्यू देती हैं। जिन कंपनियों को अल्प प्रशिक्षित युवाओं की जरूरत होती है, वे कौशल विकास केंद्र से जारी होने वाले सर्टिफिकेट प्राप्त करने वाले युवाओं को तरजीह देती हैं। ऐसे युवाओं की डिमांड इंडस्ट्रियल एरिया में हमेशा बनी रहती है।

इन सर्टिफिकेट के जरिए आप सरकारी व अर्द्ध सरकारी क्षेत्रों में निकलने वाली नौकरियों के लिए भी आवेदन कर सकते हैं। कई बार नौकरियों में सर्टिफकेट को अनिवार्य कर दिया जाता है। यानि आवेदन वही युवा कर सकते हैं, जिनके पास दक्षता प्रमाण पत्र होगा।

ऐसे लें ट्रेनिंग सेंटर्स की जानकारी

युवाओं को प्रशिक्षण केंद्रों के बारे में पता लगाने के लिए कहीं भागदौड़ नहीं करनी है। वे अपने घर के पास के प्रशिक्षण केंद्रों की जानकारी प्रधानमंत्री कौशल विकास केंद्र की ऑफिशियल वेबसाइट से हासिल कर सकते हैं। वेबसाइट पर पूरे देश भर में चल रहे प्रशिक्षण केंद्रों की जानकारी दी गई है। इन केंद्रों पर प्रशिक्षण प्रशिक्षित ट्रेनर्स द्वारा दिया जाता है। इनका चयन केंद्र संचालक सरकार के निर्देशन में करते हैं। 

About Ashutosh Srivastava

हिंदी पत्रकारिता में 21 वर्ष का अनुभव। दैनिक जागरण और अमर उजाला में लंबा समय दिया।

Check Also

idbi

आईडीबीआई भर्ती 2019 । IDBI Recruitment 2019

बैंकों में नौकरी की तलाश कर रहे युवाओं के लिए अच्छी खबर है। इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट …