Home / pradhanmantri yojana / sarkari yojana / रोजगार दाता योजना । rozgar data yojana in Hindi

रोजगार दाता योजना । rozgar data yojana in Hindi

उत्तराखंड सरकार रोजगार दाता योजना शुरू करने जा रही है। यह योजना पूरी तरह से उन लोगों के लिए होगी, जो बेरोजगार हैं। सरकार बेरोजगार युवाओं को तय सीमा और अवधि तक के लिए ऋण देगी,  जिसकी मदद से वे अपना खुद का कारोबार शुरू कर सकेंगे। योजना की खास बात यह है कि युवाओं को रोजगार के ग्रोथ के बारे में भी बताया जाएगा। कौन सा कारोबार उनके लिए बेहतर है, इसकी टिप्स भी दी जाएगी। तो चलिए हम आपको बताते हैं कि इस योजना में क्या है और आप इससे किस तरह फायदा हासिल कर सकते हैं।

रोजगार दाता योजना

 

ये कारोबार शुरू कर सकते हैं

उत्तराखंड सरकार की ओर से शुरू की जा रही रोजगार दाता योजना के तहत प्रदेश के तमाम बेरोजगार खुद का कारोबार शुरू कर सकते हैं। सरकार ने इसके लिए कारोबार की लंबी फेहरिस्त बनाई है। राज्य की नई उद्योग नीति के तहत मुर्गी पालन, होटल, अवकाश कालीन खेल, रोप वे, होटल मैनेजमेंट, कैटरिंग एंड फूट क्राफ्ट, डाइंग प्लांट आदि क्षेत्रों में कारोबार की शुरुआत की जा सकती है। इसमें निवेश प्रोत्साहन और ब्याज उपादान योजना शामिल है, जिसके लिए स्टांप शुल्क में भी छूट का प्रावधान रखा गया है।

इन जिलों को किया शामिल

  • इस योजना को 31 मार्च 2020 तक लागू किया जाएगा, जिसके लिए प्रदेश के जिलों को अलग-अलग श्रेणी में बांटा गया है।
  • ए श्रेणी में पिथौरागढ़, उत्तरकाशी, चमोली, चंपावत, रद्रप्रयाग और बागेश्वर जिले को शामिल किया गया है।
  • बी श्रेणी में अलमोड़ा का संपूर्ण क्षेत्र, पौड़ी, टिहरी के पर्वतीय बाहुल विकास खंड, नैनीताल, गढ़वाल के फकोट विकास खंड आदि जिलों को शामिल किया गया है।
  • इसी तरह सी श्रेणी में देहरादून के रायपुर, सहसपुर, विकास नगर, डोईवाला विकास खंड, रामनगर और हल्द्वावानी को शामिल किया गया है।
  • डी श्रेणी में हरिद्वार, उद्यमसिंह नगर का संपूर्ण क्षेत्र, देहरादून और नैनीताल के बचे हुए इलाकों को भी इस योजना में शामिल किया गया है।

योजना के लिए पात्रता

  • रोजगार दाता योजना का लाभ उन्हीं को मिलेगा, जो मूल रूप से उत्तराखंड के निवासी होंगे। किसी दूसरे प्रदेश के निवासियों को इस योजना का फायदा नहीं मिलेगा।
  • इस योजना का फायदा सिर्फ उन्हें ही मिलेगा, जो आर्थिक रूप से कमजोर होंगे और सरकार की मदद से खुद का कारोबार शुरू करना चाहते हैं।
  • सरकार जरूरतमंद युवाओं को तय समय और अवधि के लिए ऋण देगी, जिसकी मदद से वे अपना कारोबार शुरू कर सकते हैं।
  • लाभार्थी का चयन जिला स्तर पर किया जाएगा। इसके लिए चयन समिति का गठन किया गया है। युवाओं को साक्षात्कार की प्रक्रिया से गुजरना होगा।

योजना के लिए दस्तावेज

  • उत्तराखंड में जो भी लोग इस योजना का लाभ लेना चाहते हैं, उनके पास वोटर आईडी कार्ड होना चाहिए।
  • अगर किसी कारणवश उनके पास वोटर आईडी कार्ड नहीं है तो वे आधार कार्ड की कॉपी भी लगा सकते हैं।
  • पासपोर्ट साइज की फोटो भी फार्म के साथ अटैच करना होगा। अगर बीपीएल और एपीएल कार्ड हो तो उसकी कॉपी भी फार्म के साथ अटैच कर सकते हैं।
  • इसी तरह इस योजना का लाभ लेने के लिए बेरोजगार युवाओं को मूल निवास प्रमाणपत्र भी फार्म के साथ अटैच करना होगा।

ऑनलाइन आवेदन करें

  • उत्तराखंड सरकार की ओर से शुरू की गई इस योजना के तहत ऑनलाइन आवेदन किया जा सकता है।
  • अगर आप ऑनलाइन आवेदन करना चाहते हैं तो आपको सरकार की अफीशियल वेबसाइट पर विजिट करना होगा।
  • इस वेबसाइट पर क्लिक करने के बाद आपको इसके होम पेज पर योजना का लिंक दिख जाएगा। इस पर क्लिक करना होगा। यहां नई विंडो ओपन हो जाएगी।
  • फार्म को पढ़ने के बाद आपसे इस योजना से जुड़ी जो भी जानकारी मांगी जा रही है, उसे फार्म पर दर्ज करें।
  • फार्म पर योजना से जुड़े जो भी कॉलम दिखाई पड़े, उसे सही-सही भरें। गड़बड़ी होने पर फार्म सबमिट नहीं होगा।
  • सभी कॉलम ठीक तरह से भरने के बाद आपको सबमिट का ऑप्शन दिखाई पड़ेगा, जिसपर क्लिक करना होगा।
  • सबमिट के ऑप्शन पर क्लिक करते ही फार्म भरने की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी। आप इसका प्रिंट आउट भी अपने पास रख सकते हैं।

युवाओं को मिलेगा सहारा

उत्तराखंड सरकार की ओर से शुरू की जा रही इस योजना का लाभ शहरी और ग्रामीण इलाकों में रहने वालों को मिलेगा। युवाओं को उम्मीद है कि इस योजना से उन्हें खुद का कारोबार शुरू करने में मदद मिलेगी। खास बात यह है कि इस योजना के तहत उन कारोबार को शामिल किया गया है, जिनका फ्यूचर है। इस तरह के कारोबार में ग्रोथ की गुंजाइश ज्यादा है। लोग आराम से अपनी जीविका चला सकते हैं। सरकारी नुमाइंदों के मुताबिक इस योजना के तहत दूसरी तमाम सहूलियतें भी बेरोजगार युवाओं को दी जाएंगी। सरकार की नीयत साफ है। वह प्रदेश के विकास के लिए गंभीर है।

About Mohd. razi

हिंदी पत्रकारिता में 14 वर्ष का अनुभव। दैनिक जागरण और अमर उजाला में काफी वक्त दिया।

Check Also

annapoorna yojana

राजस्थान अन्नपूर्णा रसोई योजना । rajasthan annapoorna rasoi yojana in Hindi

राजस्थान सरकार गरीबों के लिए गंभीर है। किसानों से लेकर मजदूरों तक के लिए ढेर …