Home / sarkari naukri / असिस्टेंट लोको पायलट भर्ती 2019 । Assistant loco pilot Jobs 2019

असिस्टेंट लोको पायलट भर्ती 2019 । Assistant loco pilot Jobs 2019

रेलवे में सबसे अहम नौकरी होती है लोको पायलट की। जिसे हम लोग बोलचाल की भाषा में रेलवे ड्राइवर कहते हैं। लोको पायलट के पद तक पहुंचने के लिए पहले असिस्टेंट लोको पायलट की परीक्षा में सफल होना पड़ता है। Assistant loco pilot Jobs 2019 के लिए परीक्षा कैसे होती है और लोग प्रमोशन पाकर कहां तक पहुंच सकते हैं, इसके बारे में हम आपको विस्तार से जानकारी देंगे।

rrb

लोको पायलट बहुत ही जिम्मेदारी का पद है। पायलट भले ही कंट्रोल से मिले निर्देशों के अनुसार ट्रेन को चलाता है लेकिन काफी कुछ खुद ही करना होता है। आपात परिस्थितियों में ड्राइवर को खुद ही निर्णय लेना होता है। इसके ऊपर हजारों यात्रियों की जिंदगी की जिम्मेदारी भी होती है। असिस्टेंट लोको पायलट काे लोको पायलट के निर्देशों का पालन करना होता है।

उसको सिग्नल के साथ अन्य गतिविधियों को नोट करना होता है और कंट्रोल के संपर्क में रहना होता है। गार्ड से समन्वय करना भी असिस्टेंट लोको पायलट की जिम्ममेदारी होती है। असिस्टेंट लोको पायलट असल में लोको पायलट व कंट्रोल रूम के बीच की कड़ी होता है। पायलट के थक जाने या दूसरे काम में व्यस्त होते पर इंजन की कमान भी उसके हाथ में आ जाती है।

रेलवे लोको पायलट की नौकरी का सबसे बड़ा फायदा यह होता है कि इसमें रनिंग अलाउंस भी मिलता है। इससे वेतन काफी आकर्षक हो जाता है। अन्य स्टॉफ की तुलना में सबसे अधिक रनिंग अलाउंस पायलट को ही मिलता है। असिस्टेंट लोको पायलट के पद पर चयनित होने वाले युवा भी सभी प्रकार के भत्तों के हकदार होते हैं।

अब थोड़ा सा वर्क प्रोफाइल के बारे में भी जान लीजिए। असिस्टेंट लोको पायलट प्रमोशन पाकर लोको पायलट बनता है। इसके बाद पॉवर कंट्रोलर, क्रू कंट्रोलर, लोको फोरमैन यानि लोको सुपरवाइजर के पद तक जा सकता है। इन पदों पर पहुंच जाने के बाद भी रिनंग अलाउंट मिलता रहता है। जबकि इन पदों पर पहुंचने के बाद यात्रा नहीं करनी पड़ती।

असिस्टेंट लोको पायलट भर्ती 2019 की पूरी जानकारी । Assistant loco pilot Jobs 2019

  • रेलवे में असिस्टेंट लोको पायलट बनने के लिए उम्मीदवार का मैट्रिकुलेशन या समकक्ष परीक्षा उत्तीर्ण होना अवश्यक है। एक्ट अप्रेंटिस कंप्लइट या आईटीआई पास, एआईसीटीई से मान्यता प्राप्त मेकेनिकल, इलेक्ट्रिकल, इलेक्ट्रानिक्स, ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा या उच्च तकनीकी शैक्षिणक योग्यता का होना जरूरी है।
  • आवेदन के वक्त ही उम्मीदवार को सारे सर्टिफिकेट लगाने होते हैं। अगर एक भी दस्तावेज अर्पूण है तो चयनित होने के बाद भी उम्मीदवारी को निरस्त कर दिया जाता है। असिस्टेंट लोको पायलट की भर्ती परीक्षा के लिए फार्म भरने वाले आवेदक की आयु कम कम से 18 साल होनी चाहिए। इससे कम उम्र का व्यक्ति फार्म नहीं भर सकता।
  • अधिकतम आयु की सीमा भी निर्धारित की गई है। 28 साल  से अधिक आयु के लोग फार्म को नहीं भर सकते हैं। आरक्षित वर्ग को आयु सीमा में कुछ छूट दी गई है। एससी-एसटी, एक्स सर्विसमैन, पीडब्ल्यूडी व केंद्रीय कर्मचारियों को असिस्टेंट लोको पायलट के लिए आयु सीमा में छूट प्रदान की जाती है।

तीन चरण में होता है चयन

  • असिस्टेंट लोको पायलट की चयन प्रक्रिया तीन चरणों की होती है। पहले चरण में होती है लिखित परीक्षा। इसके बाद अभिरुचि परीक्षा और डॉक्यूमेंट वेरीफिकेशन की प्रक्रिया होती है। रेलवे के हर भर्ती बोर्ड में आवेदन के बाद शैक्षणिक योग्यता के आधार पर आवेदन पत्रों से सही उम्मीदवारों की छंटनी की जाती है। जिसकी क्वालिफिकेशन कम होगी, हो सकता है कि उसका आवेदन पहले ही रिजेक्ट कर दिया जाए।
  • इसके बाद परीक्षाओं की प्रक्रिया आरंभ होती है। जिन अभ्यर्थियों के नाम छांटे जाते हैं, फर्स्ट स्टेज कंप्यूटर बेस्ड टेस्ट और सेकेंड स्टेज कंप्यूटर बेस्ड टेस्ट होते हैं। फर्स्ट स्टेज कंप्यूटर बेस्ड टेस्ट 60 मिनट का होता है। इसमें कुल 75 प्रश्न पूछे जाते हैं।
  • सेकेंड स्टेज कंप्यूटर बेस्ड टेस्ट 150 मिनट का होता है और इसके दो पार्ट होते हैं। र्ग्ट ए व पार्ट बी। पार्ट ए 60 मिनट का होता है, इसमें कुल 100 प्रश्न होते हैं। जबकि पार्ट बी 60 मिनट का होता है जिसमें 75 प्रश्न होते हैं। एक प्रश्न को करने के लिए मात्र 45 सेकेंड का ही वक्त मिलता है।
  • दोनों चरणों में सफल होने वाले अभ्यर्थियों को एक और कंप्यूटर बेस्ट एप्टीट्यूड टेस्ट के लिए बुलवाया जाता है। कंप्यूटर बेस्ड एप्टीट्यूड टेस्ट के लिए चयनित होने वाले अभ्यर्थियों को डॉक्यूमेंट वेरीफिकेशन के लिए बुलाया जाता है। असिस्टेंट लोको पायलट के लिए आयोजित होने वाली कंप्यूटर बेस्ड टेस्ट की खास बात भी जान लीजिए। परीक्षा में निगेटिव मार्किंग भी होती है।
  • इसलिए हर सवाल का जवाब देने की कोशिश मत कीजिए। जो जवाब आते हैं, उनको ही भरें। अगर आपने गलत जवाब दे दिया तो लेने के देने पड़ जाएंगे। सवाल के अंक तो वैसे भी नहीं मिलेंगे और ऊपर से गलत जवाब पर एक तिहाई नंबर और कट जाएंगे। यानि तुक्के चक्कर में पूरा चांस ही आप बर्बाद कर बैठेंगे। सीधा गणित यह है कि तीन गलत जवाब देने पर आपका एक नंबर कट जाएगा।

वेतन व भत्ते

  • अब असिस्टेंट लोको पायलट को 7वें वेतन आयोग पे मैट्रक्स के लेवल दो के साथ 1900 रुपये का इनिशियल पे और अन्य लागू भत्ते दिए जाते हैं। असिस्टेंट लोको पायलट को रनिंग अलाउंस, डियरनेस अलाउंस, हाउस रेंट अलाउंस, नाइट ड्यूटी अलाउंस व ट्रांसपोर्ट अलाउंस दिया जाता है। सबसे ज्यादा रुपये बनते हैं रिनंग अलाउंस से।
  • यही वजह है कि असिस्स्टेंट लोको पायलट का वेतन अफसरों से भी ज्यादा हो जाता है। असिस्टेंट लोको पायलट के लिए भर्ती की प्रक्रिया समय-समय पर आती रहती है। इसके लिए आपको रेलवे भर्ती बोर्ड की वेबसाइट या रोजगार समाचार पर नजर रखनी होगी। अगर ध्यान नहीं दिया तो भर्ती आएगी और निकल जाएगी, आपको भनक तक नहीं लगेगी।

About Ashutosh Srivastava

हिंदी पत्रकारिता में 21 वर्ष का अनुभव। दैनिक जागरण और अमर उजाला में लंबा समय दिया।

Check Also

आरपीएससी सीनियर टीचर भर्ती 2020 । Rpsc senior teacher recruitment 2020 in Hindi

राजस्थान लोक सेवा आयोग की सीनियर टीचर ग्रेट-2 भर्ती के लिए काउंसिलिंग तिथि जारी कर …