Home / sarkari naukri / यूपी पुलिस कांस्टेबल भर्ती 2018 । UP Police Constable Recruitment 2018

यूपी पुलिस कांस्टेबल भर्ती 2018 । UP Police Constable Recruitment 2018

यूपी पुलिस में कांस्टेबल भर्ती 2018 के रिक्त पदों को भरने का रास्ता साफ हो गया है। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 2018 में रिक्त रह गए उत्तर प्रदेश पुलिस कांस्टेबल के पदों को योग्य उम्मीदवारों से भरने पर विचार करने का निर्देश दिया है। रिक्त पद चयन सूची के योग्य उम्मीदवारों से भरे जाएंगे। अब आप UP Police Constable Recruitment 2018 के बारे में विस्तार से जान लीजिए।

up police

अवनीश कुमार समेत 74 आवेदकों ने हाईकोर्ट की शरण ली थी। आवेदकों का पक्ष कोर्ट के सामने वकील सीमांत सिंह ने रखा। तर्क दिया गया था कि ज्वाइन न करने के कारण लगभग 3000 पद खाली रह गए हैं और योग्य उम्मीदवारों को नौकरी नहीं दी गई है। याचिका पर विचार करते हुए कोर्ट ने रिक्त पदों को योग्य उम्मीदवारों के बारे में निर्णय लेने को कहा है।

यूपी पुलिस कांस्टेबल भर्ती 2018 की पूरी जानकारी । UP Police Constable Recruitment 2018

  • वर्ष 2018 में कांस्टेबल के रिक्त 23520 पदों पर भर्ती के लिए विज्ञापन प्रकाशित किया गया था। उम्मीदवारों का चयन शारीरिक दक्षता परीक्षण व लिखित परीक्षा के आधार पर किया गया।
  • चयन के बाद कई अभ्यर्थियों को ज्वाइन नहीं करने दिया गया। इस कारण 2889 पद रिक्त रह गए। इन पदों को भरने की कोई कोशिश नहीं की गई है।
  • जिन आवेदकों ने सभी चरण की परीक्षा को क्लीयर किया है, उन्होंने कोर्ट में याचिका डाली थी।
  • कहा गया कि 22238 उम्मीदवरों को सफल घोषित किया गया। 20349 पदों पर तो ज्वाइनिंग हो गई लेकिन 2889 पद रिक्त रह गए। यह पद चयनित उम्मीदवारों के ज्वाइन न करने के कारण खाली रह गए।
  • इन पदों को योग्य उम्मीदवारों से फिर से न भरे जाने के खिलाफ याची कोर्ट चले गए थे। याचिकाकर्ताओं की ओर से वकील सीमांत सिंह ने अपनी बात रखी।
  • सुनवाई न्यायमूर्ति अश्वनी मिश्र ने की। उन्होंने याचिका की सुनवाई के बाद रिक्त पदों को न भरे जाने पर विचार करने का निर्देश पुलिस भर्ती बोर्ड को दिया।
  • उन्होंने कहा, छूटे हुए 2889 पदों को योग्य उम्मीदवारों से मेरिट के आधार पर भरा जाए। मेरिट के आधार पर उनका चयन किया जाए।
  • सभी के तर्कों को सुनने के बाद हाईकोर्ट ने पुलिस भर्ती बोर्ड को रिक्त पदों के लिए योग्य अभ्यर्थियों की नियुक्ति पर विचार कर निर्णय लेने को कहा है।
  • अब गेंद पुलिस भर्ती बोर्ड के पाले में है। बोर्ड को इस पर निर्णय लेना है। अगर रिक्त पदों को 2018 की परीक्षा में शामिल हुए योग्य उम्मीदवारों से भरा जाए या न भरा जाए।
  • रिक्त पदों को भरने पर पुलिस भर्ती बोर्ड द्वारा अगर विचार नहीं किया जाता है तो फिर से अभ्यर्थियों का कोर्ट के समक्ष जाने का रास्ता खुला हुआ है।

About Ashutosh Srivastava

हिंदी पत्रकारिता में 21 वर्ष का अनुभव। दैनिक जागरण और अमर उजाला में लंबा समय दिया।

Check Also

bssc

बीएसएससी भर्ती 2019 । Bssc recruitment 2019

बिहार कर्मचारी चयन आयोग यानि बीएसएससी ने बड़े पैमाने पर भर्ती के लिए आवेदन पत्र …