Home / sarkari naukri / यूपीपीएससी फार्म एडिट ऑप्शन 2020 । UPPSC Form edit option 2020

यूपीपीएससी फार्म एडिट ऑप्शन 2020 । UPPSC Form edit option 2020

यूपीपीएससी की परीक्षाओं के लिए आवेदन करने वालों के लिए राहत भरी खबर है। अभ्यर्थी अब किसी भी परीक्षा के लिए ऑनलाइन फार्म भरने के वक्त हुई गलती में सुधार कर सकते हैं। यूपीपीएससी ने एडिट ऑप्शन की सुविधा प्रदान कर दी है। अभी तक यह सुविधा मौजूद नहीं थी। अब आप UPPSC Form edit option 2020 के बारे में विस्तार से जानकारी हासिल कर लीजिए।

uppsc

यूपीपीएससी फार्म एडिट ऑप्शन 2020 की पूरी जानकारी । UPPSC Form edit option 2020 full information

  • उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग की किसी भी परीक्षा के लिए अभ्यर्थियों को ऑनलाइन आवेदन करना होता है। अभ्यर्थी इसके लिए यूपीपीएससी की अफीशियल वेबसाइट पर विजिट कर फार्म भरने के कोरम को पूरा करते हैं।
  • इसमें सबसे बड़ी दिक्कत यह है कि अगर किसी अभ्यर्थी से फार्म भरने में गलती हो गई तो उसके पास इसमें सुधार का कोई ऑप्शन नहीं था।
  • परीक्षार्थियों को ऐसे में दोबारा फार्म भरना पड़ता था, जिससे उनको आर्थिक नुकसान होता था या एक चांस चला जाता था।
  • जानकारों की मानें तो यूपीपीएससी की परीक्षाओं के लिए आवेदन करने वाले अभ्यर्थियों की संख्या लाखों में है। अभ्यर्थी ऑनलाइन आवेदन करते हैं।
  • ऑनलाइन फार्म भरने के दौरान उनसे तमाम तरह की गलती भी हो जाती है। अभ्यर्थी कभी नाम लिखने में गलती कर देते हैं तो कभी पिन कोड गलत डाल देते हैं।
  • वे इसपर ध्यान नहीं देते हैं और सबमिट ऑप्शन पर क्लिक कर देते हैं। सबमिट ऑप्शन पर क्लिक करने के बाद सिस्टम लॉक हो जाता है। इसके बाद फार्म में कोई सुधार नहीं किया जा सकता है।
  • ऐसे में अभ्यर्थियों को दोबारा फार्म भरना पड़ता है। माना जा रहा है कि हर साल पचास हजार से ज्यादा फार्म गलत भरे जाते हैं।
  • इसमें सबसे ज्यादा दिक्कत यूपीपीएससी को होती थी। फार्म भरने के बाद एक बार सबमिट का ऑप्शन क्लिक हो गया तो आयोग के लिए यह आवेदन पूरा हो गया। अब अगर कोई दूसरा फार्म भर रहा है तो वह आयोग के लिए दूसरा व्यक्ति होगा।
  • ऐसे में आयोग को परीक्षा के दौरान गलत फार्म भरने वालों के रोल नंबर तो जारी करने पड़ते ही हैं, उनके लिए सेंटर और सीटों का एलाटमेंट भी किया जाता है।
  • इसी तरह उनके लिए पेपर का इंतजाम किया जाता है। यानी एक नाम के दो व्यक्ति के अलग-अलग रोल नंबर जारी किए जाते हैं।
  • उनके लिए अलग-अलग सीटों का एलाटमेंट भी किया जाता है। एडिट ऑप्शन आने के बाद यह दिक्कत पूरी तरह खत्म हो जाएगी। आयोग का समय और धन दोनों बचेगा।
  • अभ्यर्थी बार-बार एडिट ऑप्शन पर जाकर गलती में सुधार कर सकते हैं।  इसका दुरुपयोग न हो, इसके लिए भी व्यवस्था की जा रही है।
  • एडिट ऑप्शन शुरू होने के बाद सबसे ज्यादा राहत अभ्यर्थियों को मिली है। आवेदन के दौरान गलती होने के बाद अभ्यर्थियों को दोबारा फार्म भरने की जरूरत नहीं पड़ेगी।
  • खास बात यह है कि उनके पैसे भी बचेंगे। आवेदन शुल्क भी ऑनलाइन जमा होता है। फार्म सबमिट होने के साथ ही आवेदन शुल्क उसमें जुड़ जाता है।
  • यानी अगर किसी अभ्यर्थी ने गलत फार्म भर दिया है तो उसका आवेदन शुल्क भी बेकार हो जाता है। दोबारा फार्म भरने के लिए अभ्यर्थियों को फिर से आवेदन शुल्क भी जमा करना पड़ता है। यानी समय के साथ अभ्यर्थियों के पैसे भी बचेंगे।
  • यूपीपीएससी को एक ही नाम के युवकों के लिए दो-दो रोल नंबर जारी करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। उनके लिए अलग से पेपर और सीटों का इंतजाम भी नहीं करना होगा।
  • आयोग से जुड़े लोगों का मानना है कि एडिट ऑप्शन जारी होने के बाद न सिर्फ अभ्यर्थियों को, बल्कि यूपीपीएससी को भी राहत मिलेगी।
  • सीटों का एलाटमेंट कम होगा तो कक्ष निरीक्षकों की संख्या भी खुद बा खुद कम हो जाएगी। यानी एडिट ऑप्शन जारी होने के बाद एक तरह से कई तरह की झंझटों से निजात मिल जाएगी।

About Ashutosh Srivastava

हिंदी पत्रकारिता में 21 वर्ष का अनुभव। दैनिक जागरण और अमर उजाला में लंबा समय दिया।

Check Also

आरपीएससी सीनियर टीचर भर्ती 2020 । Rpsc senior teacher recruitment 2020 in Hindi

राजस्थान लोक सेवा आयोग की सीनियर टीचर ग्रेट-2 भर्ती के लिए काउंसिलिंग तिथि जारी कर …